Monday, November 12, 2012

अब टका-टक फोड़ो बम, जु तारों कि बारात

दिवाली के इस शुभ-अवसर पर --ज्योति और प्रकाश पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें । 
शुभ दीपावली
=================================================

-------दीपावली पर्व पर कुछ दोहे----------

अब टका-टक फोड़ो बम, जु तारों कि बारात |
दीये जले जगह-जगह,आज दिवाली रात ॥


फूलझड़ी जल-राख भइ,दिए से गया तेल |
दीपावली बीत रही ,न हुआ लक्ष्मी-मेल ॥


बल्ब जगह लियो दिए की,लुटा अपन का प्यार |
मुबारक हो यु आपको, दिवाली त्यौहार ॥


कुमकुम भरे कदमों से,आवे लक्ष्मी द्वार |
सुख संपत्ति अब खूब मिले, होए कृपा अपार ॥


पूजा की थाली सजे,दिल में उमंग हज़ार |
रंगोली अबकि जीवन में,भरे अब रंग हज़ार ॥


पटाखों के हुडदंग में , है दियों की कतार |
विराजेगी माँ लक्ष्मी, आज आपके द्वार



______________हर्ष महाजन