Sunday, November 4, 2012

मेरे जिस्म का पोर-पोर तेरा अहसान मंद है



...

मेरे जिस्म का पोर-पोर तेरा अहसान मंद है,
पर तेरा ही खून है अब भड़के तो क्या करें |
मैं तेरी गलियों को कभी का छोड़ आया हूँ,
मगर ये दिल फिर भी धडके तो क्या करें |

________________हर्ष महाजन