Thursday, December 6, 2012

जनाब अपने अहसास खंगालिए

...

जनाब अपने अहसास खंगालिए
इन रिश्तो की बागडोर संभालिये |
छूट जाएगा सब कुछ इस जहां में ,
नहीं तो संभाल लेंगे यहाँ कंगालिये |

_____________हर्ष महाजन