Saturday, December 15, 2012

इन लरजते होटों से तस्दीक न कर चाहत की

...

इन लरजते होटों से तस्दीक न कर चाहत की,
आजकल रकीबों की मंडी आसपास बसती है |
किस तरह बचा के रखोगे नसीब में दिलदार को,
अब तो हाथों की लकीरें भी किस्मत पर हंसती हैं |

______________हर्ष महाजन