Monday, January 14, 2013

मेरे दिल के टुकड़ों पर तेरा महल देख रहा हूँ मैं

...

मेरे दिल के टुकड़ों पर तेरा महल देख रहा हूँ मैं,
अश्कों की नदिया में तेरी चहल देख रहा हूँ मैं |
क्या गुनाह किया जो टुकड़े भी तुझे रास न आये,
हाथों से उडती लकीरों की पहल देख रहा हूँ मैं |

___________________हर्ष महाजन |