Tuesday, January 15, 2013

नींद आँखों से गयी और गया दिल का करार

...

नींद आँखों से गयी और गया दिल का करार,
तेरी जुल्फों को जो चाहूँ सुलझा दूं मैं इकबार |
हिज्र में दिल नहीं मोहताज़ किसी भी रुत का,
आओ कभी तसव्वुर में सहला दूं मैं इकबार |

_______________हर्ष महाजन |