Thursday, March 21, 2013

वो शख्स मेरे पुराने अहसासों पर मरने लगा

...

वो शख्स मेरे पुराने अहसासों पर मरने लगा,
जो पन्नों पर दर्ज था बेझिझक चरने लगा |
कैसे बुझाऊँ आग धधकने लगी जो दिल में ,
वलवला जो शांत था फिर से हरकत करने लगा |

________________हर्ष महाजन