Friday, March 15, 2013

किस तरह संभाले कोई टूटे हुए जज्बातों को

...

किस तरह संभाले कोई टूटे हुए जज्बातों को,
साज़-ए-दिल में  आहें उबलती हमने देखीं हैं |

____________________हर्ष महाजन