Tuesday, March 26, 2013

रंग सभी फीके पड़े, सिर्फ चढ़े रंग गुलाल

......

रंग सभी फीके पड़े, सिर्फ चढ़े रंग गुलाल,
इक दूजे के मिल गले ,कर होली का ख्याल |
कर होली का ख्याल,ये टोली दोस्तन की है,
पीलो घोल के भंग, चाहो तो बोतल भी है
कहे 'हर्ष दो पलट, उन्ही की ज़िन्द जो बेरंग
होली है यु भाई, टका टक रंग दो सब रंग |

_______________हर्ष महाजन

होली है है भाई होली ........