Tuesday, March 12, 2013

किस तरह मेरे जज्बातों को झेल रहे हैं लोग

...

किस तरह मेरे जज्बातों को झेल रहे हैं लोग
दिल जो टुकड़ों में था उनसे खेल रहे हैं लोग |
कैसे समझेंगे वो कहाँ -कहाँ से गुज़रा हूँ मैं ,
सहारा माँगा जहां कर्जों में ठेल रहे हैं लोग |

_____________हर्ष महाजन