Saturday, April 6, 2013

मुझे मेरे ही अहसास जीने नहीं देते

...

मुझे मेरे ही अहसास जीने नहीं देते,
ज़ख्मों के अंबार मुझे पीने नहीं देते |
दर्द जो भूलने लगें चरम मेरे ज़ख्मों की ,
आज वो चादर दिल की सीने नहीं देते |

______________हर्ष महाजन