Monday, May 13, 2013

कितना असल ओ कितना सूद शेरों पे मेरे बाकी है

...

कितना असल ओ कितना सूद शेरों पे मेरे बाकी है,
पैमानों में नाप रहे वो , मसरूफ यहाँ हर साकी हैं |

__________________हर्ष महाजन