Wednesday, May 15, 2013

बर्बाद मोहब्बतां करने को बस एक ही कासिद यहाँ काफी है

...

बर्बाद मोहब्बतां करने को बस एक ही कासिद यहाँ काफी है,
हर प्यार पे कासिद राज़ करे अंजाम ऐ मोहब्बतां क्या होगा |

________________________हर्ष महाजन