Monday, May 20, 2013

जीयुं या न जीयूं अपने अहसास जगाता रहता हूँ

...

जीयुं या न जीयूं अपने अहसास जगाता रहता हूँ ,
भंवर बने न बने समंदर में तूफ़ान उठाता रहता हूँ |


___________________हर्ष महाजन