Friday, May 24, 2013

तेरे ये अश्क जो महफ़िल में बन शराब चले

...

तेरे ये अश्क जो महफ़िल में बन शराब चले,
ये हुस्न जाम संग जो उठ के बन शबाब चले |
ये बज़्म ऐसी थी गिर-गिर के उठे शेर बहुत,
ये दिल जो क़त्ल हुए फिर वो बन कबाब चले |

______________हर्ष महाजन