Thursday, May 30, 2013

तेरी जुल्फें यूँ शानों पे बिखर जाए भी तो क्या है



...

तेरी जुल्फें यूँ शानों पे बिखर जाएँ भी तो क्या है,
ये शौक तेरे दर पे ही निकल जाएँ भी तो क्या है |

ये मंजिल अब रुकी सी ये रुकी-रुकी सी शब् भी ,
अब ये मंजिलें हैं जानां निखर जाएँ भी तो क्या है |

गर तुम भी हम से खुश हो फिर ऐतराज़ भी कैसा,
फिर अपने भी खुशी में विफर जाएँ भी तो क्या है |

ये जो प्यास दी है तुमने अब बुझेगी किस तरह से ,
इन सिलसिलों में साँसे उखड जाएँ भी तो क्या है |

सदियों से दूर किये थे मुझे दिल की धडकनों से ,
चुपके से दिल में अब हम उतर जाएँ भी तो क्या है |

______________
हर्ष महाजन