Monday, May 13, 2013

इंतज़ार अब इस कदर महसूस होने लगा

...

इंतज़ार अब इस कदर महसूस होने लगा,
अपना वजूद भी साहिल पर खोने लगा |
ये सतयुग नहीं जो ज़िंदगी यूँ ही बाँधी जाए,
कलयुग है हर सुंदर लहर पर दिल मोहने लगा |

______________हर्ष महाजन