Friday, May 24, 2013

तेरी बेरुखी का सबब है क्या मेरा दिल से तुझको सलाम है


...

तेरी बेरुखी का सबब है क्या पर दिल से तुझको सलाम है,
मेरी ग़ज़लें क्या मेरे नग्में क्या मेरी नज्में सब तेरे नाम है |

मेरे ख्वाब अश्कों में ढलते क्यूँ  मेरे ग़म भी सारे मचलते क्यूँ,
मुझे फिर भी तुझसे गिला नहीं, दिल फ़कत तेरा गुलाम है |

मैं वो अश्क हूँ तेरी आँख का, जिसे ख्वाबों से है गिरा दिया,
मैं तो अब भी तेरी सुबह हूँ, न समझ तू ढलती ये शाम है |

तू है चाँद मैं हूँ फलक तेरा, तू है ज़िन्दगी मैं भी सांस हूँ ,
तू क्या जाने इश्क की इंतिहा , मेरा इश्क यूँ बदनाम है  |

तू दरिया में तूफ़ान अगर , मैं भी यादों का सैलाब इधर ,
तू जो बंद नशे की शीशी गर, ये शख्स उसमें भी जाम है |


________________हर्ष महाजन