Wednesday, July 10, 2013

कितना गहरा उपहास है दोस्ती का उनके दिल में

...

कितना गहरा उपहास है दोस्ती का उनके दिल में,
वो क्या जाने दिल में कहाँ-कहाँ तूफां उठे जाते हैं |

________हर्ष महाजन |