Friday, July 5, 2013

चाँद उतरा जो फलक से, नजर से चूक गया

...

चाँद उतरा जो फलक से, नजर से चूक गया,
मेरे दिल में जो भी था प्यार सभी लूट गया |
दर्द उठता ही रहा उनको, मुझ्को इल्म न था ,
जो सितारों से मेरा दिल से था रसूक गया |

_______________हर्ष महाजन