Monday, July 1, 2013

रग-रग वफ़ा से चूर दिल विसाल-ए-यार कर दिया

....

रग-रग वफ़ा से चूर दिल विसाल-ए-यार कर दिया,
नफरत से भर-भर उसने फिर मेरे हवाले कर दिया |

__________________हर्ष महाजन