Thursday, July 11, 2013

अब हश्र में भी था न कोई चाहने वाला मेरा

...

अब हश्र में भी था न कोई चाहने वाला मेरा
एक तू ही तो था वो भी बहाने वाला निकला |

__________________हर्ष महाजन