Thursday, August 22, 2013

जाने क्यूँ अब खेलने को उसे मेरा दिल ही नज़र आने लगा

...

जाने क्यूँ अब खेलने को उसे मेरा दिल ही नज़र आने लगा,
तन्हाइयों में है मुद्दत से,ये सोच मैं खुद को समझाने लगा |
जलवा फिरोश होती है रोज़ मेरी ही कही तहरीरों पर अक्सर,
शायद आज़ाद कहने को हर शेर उसे अधूरा नजर आने लगा |

_______________________हर्ष महाजन |