Wednesday, August 28, 2013

बेवज़ह तू दो पल जुदा हुई

...

बेवज़ह तू दो पल जुदा हुई,
शायद तू खुद न रिहा हुई |

जब मुस्तकबिल तेरा यहाँ,
काहे को तू फिर विदा हुई |

तुझे रंज कोई कलम से है ,
फिर नराज़गी क्या अदा हुई |

दुश्मन था पहले ही ताब पे ,
जो थीं हसरतें यूँ फना हुई |

तू समन्दरों की प्यास फिर,
दरिया पर क्यूँ तू फ़िदा हुई |

सर रख तू रो जिन कांधों पे,
तू समझ 'हर्ष' से अता हुई |

________हर्ष महाजन