Wednesday, August 7, 2013

उसने मेरी आँखों में प्यार से समंदर पाला है

...

उसने मेरी आँखों में प्यार से समंदर पाला है,
लहरें इस कदर तेज़ हैं बा-मुश्किल संभाला है |
ज़ख्मों में टीस इतनी कि बाँध फिर टूटेगा अब,
उस बे-वफ़ा ने जुदाई को अभी तक नहीं टाला है |

___________________हर्ष महाजन