Thursday, August 8, 2013

सरहद पे बैठ बेचते वो राजनितिक रोटियां

...

सरहद पे बैठ बेचते वो राजनितिक रोटियां ,
आवाम कहाँ निभा सका ईद का हर पैगाम |
सदी से दिल मे प्यार है ओ ईद भरी है शाम,
डर इक उम्र से सालता कब उजड़े गुलफाम |

___________हर्ष महाजन