Sunday, September 15, 2013

कुछ तो अश्क ऐसे भी हैं जिनकी जुबां होती नहीं

...

कुछ तो अश्क ऐसे भी हैं जिनकी जुबां होती नहीं,
फिर कुछ  लफ़्ज़ों से मोहब्बत भी बयां होती नहीं |
जब मिलेगा वो अलख प्यार तो रूह सब मांगेगी,
गर खुदा चाहे भी किस्मत में खिज़ां होती नहीं |
________________हर्ष महाजन