Monday, September 23, 2013

इतनी मेहरबानी शख्स वो मुझपे करने लगा


...

इतनी मेहरबानी शख्स वो मुझपे करने लगा, 
मेहमां बन के मेरे दिल पे अब वो मरने लगा |
न जाने किस तरह कमबख्त दिल में आग लगी,
मेरी इन साँसों में वो शख्स अब तो चलने लगा |

________________हर्ष महाजन 

contd....