Saturday, September 7, 2013

मैं सिफर आज भी था प्यार में कल भी यारो


....

मैं सिफर आज भी था प्यार में कल भी यारो ,
इस मोहब्बत में करूँ कैसे कोई छल यारो |
जो होती उनसे मुलाक़ात तसव्वुर में कभी ,

यकीं से कहता 'हर्ष' सबसे अब संभल यारो |

_________________हर्ष महाजन