Tuesday, October 15, 2013

मैं मुहब्बतों में ज़बर का कायल नही हूँ

...

मैं मुहब्बतों में ज़बर का कायल नही हूँ,
मुहब्बत तो करता हूँ पर घायल नहीं हूँ |

_______________हर्ष महाजन

Mein mohabbaton mein Zabar ka qayal nahin hooN.
Mohabbat to karta hooN par Ghayal nahiN hooN.

______________________Harash mahajan