Sunday, October 27, 2013

ज़रा सी बे-रुखी उनकी जान मेरी हथेली पर ले आती है

...

ज़रा सी बे-रुखी उनकी जान मेरी हथेली पर ले आती है,
अफ़सोस है हम कब से खफा हैं, उन्हें मलाल तक नहीं ।
बे-इन्तहा प्यार किया है उनसे, मगर खाली हाथ ही हूँ,
अब इस बे-रुखी का शायद दुनियाँ में मिसाल तक नहीं ।

_______________________हर्ष महाजन