Saturday, October 5, 2013

चाहूँ तो निगाहों से पी लूं जिसपे हो नाज़ नशे-मन


... 

चाहूँ तो निगाहों से पी लूं जिसपे हो नाज़ नशे-मन का,
पर है तकदीर में साहिल वो, करे जो राज़ मेरे तन का |
जहाँ फूल खिले है दिलभर का वो चमन सदा आबाद रहे, 
ये खेल नहीं अल्फासों का मैं शायर 'हर्ष' हूँ तन-मन का |

________________________हर्ष महाजन