Saturday, October 12, 2013

तेरे इश्क ने जो तूफ़ान मेरे अन्दर झेला होगा


...

उनके इश्क ने जो तूफ़ान, मेरे अन्दर झेला होगा,
शायद ही कभी समंदर ने ऐसा मंज़र खेला होगा |

_______________हर्ष महाजन