Wednesday, November 20, 2013

ये कैसे उजड़ा अपनों का चमन देखते चलो,

...
ये कैसे उजड़ा अपनों का चमन देखते चलो,
शहीदों के पड़े हैं यहाँ क़फ़न देखते चलो ।
तज़ुर्बा हो गया था हमको भी निशानियों को देख
किसी की साज़िशों का अब ये फन देखते चलो ।

________________हर्ष महाजन