Saturday, November 23, 2013

मैं ज़ख्म तो हूँ यक़ीनन भर जाऊँगा,



मैं ज़ख्म तो हूँ यक़ीनन भर जाऊँगा,
मगर दाग बन ता-उम्र नज़र आऊँगा ।
जब तलक हूँ तेरे हाथों की लकीरों में,
दरिया हूँ मगर समंदर नज़र आऊँगा ।

___________हर्ष महाजन