Monday, November 4, 2013

वो दिल से गया खेल दोस्ती की तरह

...

वो दिल से गया खेल दोस्ती की तरह,
लगे है उम्र कटेगी अब सदी की तरह ।
दर्द बादलों सा लहर बन के चल पड़ा,
वो बुझ गया है दिल से रोशनी की तरह ।

___________हर्ष महाजन