Saturday, March 29, 2014

दिलों के शौक महफ़िलों में आके भूल गए



… 

दिलों के शौक महफ़िलों में आके भूल गए,
तराने यूँ चले कि...…साजों के असूल गए ।
कभी चले है बर्तनों पे .…...जैसे उँगलियाँ ,
लगा यूँ ऐसे जैसे बचपनों.…में  झूल गए ।
 


DiloN ke shouk mahfiloN meiN aake bhool gaye,
Tarane yuN chale ki saazoN ke asool gaye,
Kabhi chale haiN bartanoN pe jaise ungliyaaN,
laga yuN aise jaise bachpanoN meiN jhool gaye.


_________________Harash Mahajan