Sunday, March 23, 2014

मैं संजय हूँ -- व्यंग

… 

व्यंग
+++++


मैं संजय हूँ
महाभारत का नहीं
कलयुग का !
अँधा हूँ !
जन्मांध नहीं हूँ।
महाभारत में
दूरदृष्टि से,
मैंने सच्चाई परोसी थी ।
आजकल धूर्त दृष्टि से
झूठ परोस रहा हूँ मैं ।

-----हर्ष महाजन