Wednesday, April 30, 2014

गम से रहा गाफिल जो शख्स खुश है खबर आने लगी


....

गम से रहा गाफिल जो शख्स खुश है खबर आने लगी,
है चोट चेहरे की सिलवटों में मगर नज़र आने लगी ।
कुछ दिन शहीदों की कब्र पर अब और जलेंगे दीप यहाँ,
क्या हुआ सियासती दौर को जो नस्ल इधर आने लगी ।

--------------हर्ष महाजन