Saturday, April 12, 2014

अपने दिल की सरहदों पर उसने इस तरह बाढ़ लगाई है

....

अपने दिल की सरहदों पर उसने इस तरह
बाढ़ लगाई है,
मेरे अहसासों पर न जाने कितनी असरदार चोटें आयी है ।

__________हर्ष महाजन

...

Apne Dil ki sarhadoN par usne is tarah baaRh lagaayii hai
Mere ahsasoN par na jaane kitni asardaar choteN aayii haiN.

_________Harash Mahajan