Thursday, May 15, 2014

... पत्थरों के शहर में हैं पत्थरों से लोग अब

...

पत्थरों के शहर में...... हैं पत्थरों से लोग अब,
भूल गए रिश्ते सभी अब पत्थरों के शौक अब ।
दिल कभी थी मंजिलें, जो प्यार से महफूज़ थी,
आज रिश्तों की जगह हैं,  पत्थरों के सोग अब ।

----------–--हर्ष महाजन