Friday, May 16, 2014

हमने चाहा था उन्हें... अपनी दुआओं में रहे

...

हमने चाहा था उन्हें... अपनी दुआओं में रहे ,
इतनी थी उनकी अना अपनी अदाओं में रहे |
रिश्ता तो टूटा मगर, आईने सा बिखर गया,
अब तो चाहत है न नफरत वो वफाओं में रहे |

___________हर्ष महाजन