Wednesday, May 28, 2014

अब कमल फूल के शासन में हर शाख बदलने वाली है

....

अब कमल फूल के शासन में.... हर शाख बदलने वाली है,
हर शज़र के उजड़े पत्तों को, कमल साख निगलने वाली है ।
जितनी भी खर पतवार यहाँ, खुद सूख जाए तो अच्छा है,
वरना अमन की सीने पे.........तलवार भी चलने वाली है ।

--------------हर्ष महाजन