Saturday, May 3, 2014

.तेरा दिल रकीबों का शहर है, मैं हैरान हूँ अब क्या करूँ


...

तेरा दिल रकीबों का शहर है, मैं हैरान हूँ अब क्या करूँ,
इन काफिरों के शहर में अब, परेशान हूँ  अब क्या करूं ।
मेरा सब्र मुझ से बिछुड़ गया, तनहायी में है पड़ा हुआ,
अब कुछ ही पल का लगे मुझे, मेहमान हूँ अब क्या करूँ ।

-----------------हर्ष महाजन