Sunday, May 18, 2014

वो शख्स दिल से उतर गया ये भी सच है गैर निकल गया

इक मुक्तक में थोड़ी तब्दीली ...उम्मीद है मेरे ज़हीन श्रोता इसे ज़रूर पसंद करेंगे.....

...

वो शख्स दिल से उतर गया ये भी सच है गैर निकल गया,
पलकों से उतरा अश्क बन पर सकूं था ज़हर निकल गया |
था खुदा का उसमें ज़ज्बा इक हर शख्स उसको अज़ीज़ था,
पर था अना में वो इस कदर कि खुदा का मेहर निकल गया |

_______________हर्ष महाजन