Thursday, June 12, 2014

गर उन्हें याद नहीं ख़त में क्यूँ ‘हम’ लिखते हैं


...

गर उन्हें इल्म नहीं, ख़त में क्यूँ, ‘हम’ लिखते हैं,
वो यूँ  कहते हैं कि....मज़मून-ए-गम लिखते हैं |
उनसे दूरी का उन्हें........गम नहीं, कहा उसने,
बस ज़रा ख़त में उन्हें, आँख हैं नम, लिखते हैं |

______________हर्ष महाजन