Wednesday, June 4, 2014

बिखरे रिश्तों की दरारें अब मिटाऊं कैसे

....

बिखरे रिश्तों की दरारें अब मिटाऊं कैसे,
मोम के रिश्ते.....गर्मियों से बचाऊँ कैसे |
इतना घुला है ज़हर उसके जहन में 'हर्ष',
अपने हाथों की लकीरें उसे दिखाऊँ कैसे |

_________हर्ष महाजन