Friday, June 13, 2014

लोग तो खुशियाँ और.... इमदाद बाँटते हैं

...
लोग तो खुशियाँ और.... इमदाद बाँटते हैं,
हम तो कवि हैं....गम में भी दाद बाँटते हैं |
ज़रूरी नहीं कि......मौत पर रोया ही जाए,
हम ग़ज़लों में अश्कों का सैलाब बाँटते हैं |
________हर्ष महाजन