Monday, June 16, 2014

यूँ दिल-ओ-जहाँ से गुज़र गया

....


यूँ दिल-ओ-जहाँ से.....गुज़र गया,
वो ख्यालों से ही..........उतर गया |
था जिस्म-ओ-जाँ की तलब में जो ,
अब बातों से भी........ज़िकर गया |



________हर्ष महाजन