Friday, June 20, 2014

गर ये गजलें मेरी हो गयीं बहर में, दोस्त बनकर खुदा मुस्कराएगा फिर

...

गर ये गजलें मेरी हो गयीं बहर में, दोस्त बनकर खुदा मुस्कराएगा फिर,
गर वो है बादशाह मेरी तकदीर का, पत्थरों से निकल के वो आएगा फिर |

मेरी तनहाईयों का सबब भी था वो, मेरी तहरीरों का हर लफ़ज़ भी था वो,
जो भी दिल पे मेरे हैं निशाँ ज़ख्मों के, हर निशाँ खुद सितम बतलायेगा फिर |

जब हुआ यूँ कतल मेरे अरमानों का, बिछुड़ा साहिल लगा मुझको अंगारों सा,
मेरे हमराज़ हैं राज़ो से तर ब तर, डर है राज़ो को अब गुनगुनाएगा फिर |

मेरा किरदार मुझी से खफा हो चला, ज़िंदगी से लगे बे-वफ़ा हो चला,
कुछ थीं नाकामियाँ दिल की तन्हाइयां, जाने दर मेरा कब खटखटाएगा फिर |

कुछ तु कर ले लिहाज़ मेरे साहिल मेरा, कुछ दिनों तक तो था हमसफ़र मैं तेरा,
|खुदकशी न तू लिख, क़त्ल कर दे मेरा, जाने तुझ सा कोई कब सताएगा फिर |

______________________________
___हर्ष महाजन

Gar ye GhazleiN meri ho gayiN baher meiN, dost bankar khuda muskuraayega phir,
Gar wo hai badshah merii takdeer ka,PatthroN se nikal ke wo aayega phir.

Meri tanhaaiiyoN ka sabab bhi tha wo, merii tahreeroN ka har lafaz bhi tha wo,
Jo bhi dil pe mere haiN nishaaN zakhmoN ke, har nishaaN khud sitam batlayega phir.

Jab hua yuN katal mere armaanoN ka, bichudaa saahil lagaa mujhko angaroN sa,
Mere hamraaz haiN raazo se tar b tar, dar hai raazoN ko ab gungunayega phir.

Mera kirdaar mujhi se khafaa ho chalaa,zindagii se lage be-wafa ho chalaa,
Kuchh thi naakaamiyaaN dil ki tanhaaiyaaN, jaane dar mera kab khatkhatatega phir.

Kuchh tu kar ligaaz mere saahil mera, kuchh diloN tak to tha hamsafar maiN tera,
Khudkashi na tu likh,katal kar de mera, jaane tujh sa koii kab sataayega phir.